Read Sharab Shayari in Hindi

Sharab Kaise Pilayi Jati Hai

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है,
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है,
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ टूटे दिल वालों,
यहाँ दर्द-ए-दिल की दवा पिलाई जाती है।

Tum Kya Jano Sharab Kaise Pilayi Jati Hai,
Kholne Se Pehle Botal Hilayi Jati Hai,
Fir Aawaj Lagayi Jaati Hai Aa Jao Toote Dil Walo,
Yahan Dard-e-Dil Ki Dawa Pilayi Jati Hai.

Chheen Kar Haatho Se Jaam

छीनकर हाथों से जाम वो इस अंदाज़ से बोली,
कमी क्या है इन होठों में जो तुम शराब पीते हो।
Chheen Kar Haatho Se Jaam Wo Is Andaaz Se Boli,
Kami Kya Hai Inn Hothho Mein Jo Tum Sharaab Peete Ho.

तौहीन न करना कभी कह कर कड़वा शराब को,
किसी ग़मजदा से पूछो इसमें कितनी मिठास है।
Tauheen Na Karna Kabhi Kah Kar Kadwa Sharab Ko,
Kisi GhamZada Se Poochho Ismein Kitni Mithhaas Hai.

[Read more Shayari...]

Maykhane Ki Izzat Ka Sawal

मयखाने की इज्ज़त का सवाल था हुज़ूर,
सामने से गुजरे तो, थोड़ा सा लड़खड़ा दिए।
Maykhane Ki Izzat Ka Sawal Tha Huzoor,
Samne Se Gujre To Thoda Sa Ladkhada Diye.

Maykhane Ki Izzat Sharab Shayari

देखा किये वह मस्त निगाहों से बार-बार,
जब तक शराब आई कई दौर चल गये।
Dekha Kiye Wo Mast Nigaahon Se Baar Baar,
Jab Tak Sharab Aayi Kayi Daur Chal Gaye.

[Read more Shayari...]

Taras Kha Ke Pee Gaya

लहरों पे खेजता हुआ लहरा के पी गया,
साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया।
मैंने तो छोड़ दी थी पर रोने लगी शराब,
मैं उसके आँसुओं पे तरस खा के पी गया।

Laheron Pe Khejta Hua Lahera Ke Pee Gaya,
Saqi Ki Har Nigaah Pe Bal Kha Ke Pee Gaya,
Maine To Chhod Di Thi Par Rone Lagi Sharab,
Main Uske Aansuon Pe Taras Kha Ke Pee Gaya.

[Read more Shayari...]

Pila Kar Jaam Labon Se

वो पिला कर जाम लबों से अपनी मोहब्बत का,
अब कहते हैं नशे की आदत अच्छी नहीं होती।
Wo Pila Kar Jaam Labon Se Apni Mohabbat Ka,
Ab Kehte Hain Nashe Ki Aadat Achhi Nahi Hoti.

क़िबला-ओ-काबा ये तो पीने पिलाने के हैं दिन,
आप क्या हलक के दरबान बने बैठे हैं।
Qibla-o-Kaba Ye To Peene-Pilane Ke Hain Din,
Aap Kya Halak Ke Darbaan Bane Baithhe Hain.

अलग बैठे थे कि आँख साकी की पड़ी मुझ पर,
अगर है तिश्नगी कामिल तो पैमाने भी आयेंगे।
Alag Baithe The Ki Aankh Saqi Ki Padi Mujh Par,
Agar Tishngi Kamil To Paimane Bhi Aayenge.