Read Gham Shayari in Hindi

Ai Shab-e-Gham

नींद आँखों में पिरोने की इजाज़त दे दे,
ऐ शब-ए-ग़म अब हमें सोने की इजाज़त दे दे।
Neend Aankhon Mein Pirone Ki ijaajat De De,
Ai Shab-e-Gham Ab Humein Sone Ki ijaajat De De.

लोग कहते हैं वक्त किसी का गुलाम नही होता,
फिर क्यूँ थम सा जाता है ग़मों के दौर में?
Log Kehte Hain Ki Waqt Kisi Ka Gulam Nahi Hota,
Fir Kyun Tham Sa Jata Hai Ghamo Ke Daur Mein.

[Read more Shayari...]

Gham Ki Andheri Raat Mein

एक किरन भी तो नहीं ग़म की अंधेरी रात में,
कोई जुगनू कोई तारा कोई आँसू कुछ तो होता।
Ek Kiran Bhi To Nahi Gham Ki Andheri Raat Mein,
Koi Jugnoo Koi Taara Koi Aansoo Kuchh To Hota.

तुम्हें पा लेते तो किस्सा कब का खत्म हो जाता,
तुम्हें खोया है तो यकीनन कहानी लम्बी चलेगी।
Tumhein Paa Lete To Kissa Kab Ka Khatm Ho Jata,
Tumhein Khoya Hai To Yakeenan Kahani Lambi Chalegi.

[Read more Shayari...]

Tera Gham Salamat Hai

न हारा है इश्क न दुनिया थकी है,
दिया जल रहा है हवा चल रही है,
सुकून ही सुकून है खुशी ही खुशी है,
तेरा ग़म सलामत मुझे क्या कमी है।
Na Haara Hai Ishq Na Duniya Thaki Hai,
Diya Jal Raha Hai Hawa Chal Rahi Hai,
Sukoon Hi Sukoon Hai Khushi Hi Khushi Hai,
Tera Gham Salamat Mujhe Kya Kami Hai.

[Read more Shayari...]

To Gham Milte Hain

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हैं।
Hadd Se Barh Jaayein Talluk To Gham Milte Hain,
Hum Isee Vaste Ab Har Shakhs Se Kam Milte Hain.

ग़म किस को नहीं तुझको भी है मुझको भी है,
चाहत किसी एक की तुझको भी है मुझको भी है।
Gham Kis Ko Nahi Tujhko Bhi Hai MujhKo Bhi Hai,
Chahat Kisi Ek Ki TujhKo Bhi Hai MujhKo Bhi Hai.

[Read more Shayari...]

Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti

लोग पढ़ लेते है आँखों से मेरे दिल की बात,
अब मुझसे तेरे ग़म की हिफाजत नहीं होती।
Log Parh Lete Hain Aankho Se Dil Ki Baat,
Ab Mujhse Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti.

ये मायूस सफर और ये ग़मगीन शाम,
मैं रुक तो जाऊं मगर कोई रोकता नहीं।
Ye Mayoos Safar Aur Ye Ghamgeen Shaam,
Main Ruk To Jaaun Magar Koi Rokta Nahi.

[Read more Shayari...]