Hurt Shayari

Aakhiri Khat Tera Hurt Shayari

हर्फ़-हर्फ़ इस कदर था तल्खियों से भरा,
आखिरी ख़त तेरा दीमक से भी खाया ना गया।
Harf-Harf Iss Kadar Tha Talkhiyon Se Bhara,
Aakhiri Khat Tera Deemak Se Bhi Khaya Na Gaya.

तहज़ीब में भी उसकी क्या ख़ूब अदा थी,
नमक भी अदा किया तो ज़ख्मों पर छिड़क कर।
Tahzeeb Mein Bhi Uski Kya Khoob Adaa Thi,
Namak Bhi Adaa Kiya To Zakhmo Pe Chhidak Kar.

[Read more Shayari...]

Wo Zakhm Kabhi Fir

हमने तो बस इतना ही सीखा है दोस्तों,
राह-ए-वफ़ा में कभी किनारा नहीं मिलता,
जो मिल जाये इस राह पर कभी यार से,
वो ज़ख्म कभी फिर दोबारा नहीं सिलता।

Humne To Bas Itna Hi Seekha Hai Dosto,
Raah-e-Mohabbat Mein Kabhi Kinara Nahi Milta,
Jo Mil Jaye Iss Raah Par Kabhi Yaar Se,
Wo Zakhm Kabhi Fir Dobara Nahi Silta.

Hum Tere Qabil Nahi Rahe

जा और कोई ज़ब्त की दुनिया तलाश कर,
ऐ इश्क़ अब हम तेरे क़ाबिल नहीं रहे।
Ja Aur Koi Jabt Ki Duniya Talash Kar,
Ai Ishq Ab Hum Tere Qabil Nahi Rahe.

नए ज़ख्म के लिए तैयार हो जा ऐ दिल,
कुछ लोग प्यार से पेश आ रहे हैं।
Naye Zakhm Ke Liye Tayyar Ho Ja Ai Dil,
Kuchh Log Pyar Se Pesh Aa Rahe Hain.

[Read more Shayari...]

Hurt Shayari Tere Diye Zakhm

सितम सह कर भी कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छुपाये हमने।

Sitam Seh Kar Bhi Kitne Gham Chhupaye Humne,
Teri Khatir Har Din Aansoo Bahaaye Humne,
Tu Chhod Gaya Jahan Humein Raahon Mein Akela,
Tere Diye Zakhm Har Ek Se Chhupaye Humne.

Seete Rahe Hum Zakhm

आकर जरा देख तेरी खातिर हम किस तरह से जिए,
आँसू के धागे से सीते रहे हम जो जख्म तूने दिए।
Aakar Jara Dekh Teri Khatir Hum Kis Tarah Se Jiye,
Aansoo Ke Dhaage Se Seete Rahe Hum Jo Zakhm Tune Diye.

नमक भर कर मेरे ज़ख्मों में तुम क्या मुस्कुराते हो,
मेरे ज़ख्मों को देखो मुस्कुराना इस को कहते हैं।
Namak Bhar Kar Mere Zakhmon Mein Tum Kya Muskurate Ho,
Mere Zakhmon Ko Dekho Muskurana Iss Ko Kehte Hain.

[Read more Shayari...]