Read Intezaar Shayari in Hindi

Aayenge Kab Wo ?

कुछ बातें करके वो हमें रुला के चले गए,
हम न भूलेंगे यह एहसास दिला के चले गए,
आयेंगे कब वो अब तो यह देखना है उम्र भर,
बुझ रही है आग जिसे वो जला कर चले गए।
Kuchh Baatein Karke Wo Humein Rula Ke Chale Gaye,
Hum Na Bhulenge Ye Ehsaas Dila Ke Chale Gaye,
Aayenge Kab Wo Ab To Ye Dekhna Hai Umr Bhar,
Bujh Rahi Hai Aag Jise Wo Jalaa Kar Chale Gaye.

[Read more Shayari...]

Aankh Mein Intezar Dikhe

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।
Kabhi To Chaunk Ke Dekhe Koi Humari Taraf,
Kisi Ki Aankh Mein Humko Bhi Intezar Dikhe.

किसी रोज़ होगी रोशन मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नहीं तेरे लौट आने का है।
Kisi Roz Hogi Roshan Meri Bhi Zindagi,
Intzaar Subah Ka Nahi Tere Laut Aane Ka Hai.

[Read more Shayari...]

Iss Ko Kahete Hain Intezaar

ये जो पत्थर है आदमी था कभी,
इस को कहते हैं इंतज़ार मियां।
Ye Jo Patthar Hai Aadmi Tha Kabhi,
Iss Ko Kehte Hain Intezaar Miyaan.

रात क्या होती है हमसे पूछिए,
आप तो सोये सवेरा हो गया।
Raat Kya Hoti Hai Hum Se Poochhiye,
Aap To Soye Savera Ho Gaya.

हर आहट पर साँसें लेने लगता है,
इंतज़ार भी भला कभी मरता है।
Har Aahat Par Saanse Lene Lagta Hai,
Intezaar Bhi Bhala Kabhi Marta Hai.

Laut Ke Kab Aate Hain

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
लौट के कब आते हैं छोड़ कर जाने वाले।
Bas Yoon Hi Umeed Dilate Hain Zamane Wale,
Laut Ke Kab Aate Hain Chhod Kar Jaane Wale.

Laut Ke Kab Aate Hain Intezaar Shayari

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।
Haalaat Keh Rahe Hain Mulakaat Nahi Mumkin,
Ummeed Keh Rahi Hai Thhoda Intezaar Kar.

[Read more Shayari...]

Kisi Ka Intezaar Kya Karte

आप करीब ही न आये इज़हार क्या करते,
हम खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
साँसे साथ छोड़ गयीं पर खुली रखी आँखें,
इस से ज्यादा किसी का इंतज़ार क्या करते।

Aap Kareeb Hi Na Aaye Izhaar Kya Karte,
Hum Khud Bane Nishana To Shikaar Kya Karte,
Saanse Saath Chhod Gayi Par Khuli Rakhi Aankhein,
Iss Se Jyada Kisi Ka Intezaar Kya Karte.