Sharab Shayari

Pyaas Mila Di Ho Sharab Mein

पीता हूँ जितनी उतनी ही बढ़ती है तिश्नगी,
साक़ी ने जैसे प्यास मिला दी हो शराब में।
Peeta Hoon Jitni Utni Hi Barhti Hai Tishngi,
Saqi Ne Jaise Pyaas Mila Di Ho Sharab Mein.

Saqi Sharab Shayari in Hindi

जाहिद ने मैकशी की इजाज़त तो दी मगर,
रखी है इतनी शर्त खुदा से छुपा के पी।
Zahid Ne Maikashi Ki Ijazat To Dee Magar,
Rakhi Hai Itni Shart Khuda Se Chhupa Ke Pee.

[Read more Shayari...]

Sharab Lekar Aana Shayari

तोहफे में मत गुलाब लेकर आना,
मेरी क़ब्र पर मत चिराग लेकर आना,
बहुत प्यासा हूँ बरसों से मैं,
जब भी आना शराब लेकर आना।
Tohfe Mein Mat Gulab Lekar Aana,
Meri Kabr Par Mat Chirag Lekar Aana,
Bahut Pyasa Hoon Barson Se Main,
Jab Bhi Aana Sharab Lekar Aana.

[Read more Shayari...]

Shayari Ye Botal Sarab Ki

एक पल में ले गई मेरे सारे ग़म खरीद कर,
कितनी अमीर होती है ये बोतल शराब की।
Ek Pal Mein Le Gayi Mere Saare Gham Khareed Kar,
Kitni Ameer Hoti Hai Ye Botal Sarab Ki.

ग़मे-दुनिया में ग़मे-यार भी शामिल कर लो,
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें।
Gham-e-Duniya Mein Gham-e-Yaar Bhi Shamil Kar Lo,
Nasha Barhta Hai Sharabein Jo Sharabon Se Mile.

[Read more Shayari...]

Sharab Shayari, Ye Saqi Ne Sagar Mein

यह साकी ने सागर में क्या चीज दे दी,
कि तौबा हुई पानी-पानी हमारी।
Ye Saqi Ne Sagar Mein Kya Cheej De Di,
Ki Tauba Huyi Paani-Paani Humari.

Saaqi Sagar Sharab Shayari

मैं समझता हूँ तेरी इशवागिरी को साकी,
काम करती है नजर नाम पैमाने का है।
Main Samajhta Hoon Teri IshwaGiri Ko Saqi,
Kaam Karti Hai Najar Naam Paimaane Ka.

[Read more Shayari...]

Saaki Ki Mast Aankhein

असर न पूछिए साकी की मस्त आँखों का,
ये देखिये कि कोई होशमंद बाकी है?
Asar Na Poochhiye Saaki Ki Mast Aankho Ka,
Ye Dekhiye Ki Koyi Hoshmand Baaki Hai?

निगाहे-मस्त से मुझको पिलाये जा साकी,
हसीं निगाह भी जामे-शराब होती है।
Nigaah-e-Mast Se Mujhko Pilaye Ja Saaqi,
Haseen Nigaah Bhi Jaam-e-Sharab Hoti Hai.

[Read more Shayari...]