May Chhalak Jaye To

मय छलक जाए तो कमजर्फ हैं पीने वाले,
जाम खाली हो तो साकी तेरी रूसवाई है।
May Chhalak Jaye To KamJarf Hain Peene Wale,
Jaam Khali Ho To Saqi Teri Ruswayi Hai.

नशा तब दोगुना होता है जनाब,
जब जाम भी छलके और आँख भी छलके।
Nasha Tab Doguna Hota Hai Janaab,
Jab Jaam Bhi Chhalake Aur Aankh Bhi Chhalake.

आज पी लेने दे जी लेने दे मुझ को साक़ी,
कल मेरी रात ख़ुदा जाने कहाँ गुजरेगी।
Aaj Pee Lene De Jee Lene De Mujhko Saqi,
Kal Meri Raat Raat Khuda Jaane Kahan Gujregi.

मस्त करना है तो खुम से मुँह लगा दे साकी,
तू पिलायेगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।
Mast Karna Hai To Khum Moonh Se Laga De Saqi,
Tu Pilayega Kahan Tak Mujhe Paimaane Se.

Abdul Hamid Adam Shayari Collection

Sharab Kaise Pilayi Jati Hai

You may also like