Insaniyat Shayari

Shayari Insaniyat Ki Roshni

इन्सानियत की रौशनी गुम हो गई कहाँ,
साए तो हैं आदमी के मगर आदमी कहाँ?
Insaniyat Ki Roshni Gumm Ho Gayi Kahan?
Saaye To Hain Aadmi Ke Magar Aadmi Kahan?

Insaniyat Ki Roshni Shayari

मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।
Meri Jubaan Ke Mausam Badalte Rehte Hain,
Main To Aadmi Hoon Mera Aitbaar Mat Karna.

[Read more Shayari...]

Insaan Ko Mare Hue

इल्म-ओ-अदब के सारे खज़ाने गुजर गए,
क्या खूब थे वो लोग पुराने गुजर गए,
बाकी है बस जमीं पे आदमी की भीड़,
इंसान को मरे हुए तो ज़माने गुजर गए।

ilm-o-Adab Ke Saare Khazane Gujar Gaye,
Kya Khoob The Wo Log Puraane Gujar Gaye,
Baaki Hai Bas Zamin Pe Aadmi Ki Bheed,
Insaan Ko Mare Hue To Zamane Gujar Gaye.

Sone Ke Darwaje The

Insaniyat Shayari Sone Ke Darwaze

सच्चाई थी पहले के लोगों की जुबानों में,
सोने के थे दरवाजे मिट्टी के मकानों में।
Sachchai Thi Pehle Ke Logon Ki Jubano Mein,
Sone Ke Darwaje The Mitti Ke Makaano Mein.

दो-चार नहीं मुझको बस एक दिखादो,
वो शख़्स जो बाहर से भी अन्दर की तरह हो।
Do-Char Nahi Mujhko Bas Ek Dikha Do,
Wo Shakhs Jo Baahar Se Bhi Andar Ki Tarah Ho.

[Read more Shayari...]

Insaniyat Shayari, Hum Insaan Hain

जिस्म की सारी रगें तो
स्याह खून से भर गयी हैं,
फक्र से कहते हैं फिर भी
हम कि हम इंसान हैं।

Jism Ki Saari Ragein To
Syaah Khoon Se Bhar Gayin,
Fakr Se Kehte Hain Phir Bhi
Hum Ki Hum Insaan Hain.

[Read more Shayari...]

Shayari Insaan Ki Khwahishein

इंसान की ख़्वाहिशों की... कोई इन्तेहाँ नहीं,
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद।

Insaan Ki Khwahishon Ki... Koi Inteha Nahi,
Do Ghaz Zamin Bhi Chahiye Do Ghaz Kafan Ke Baad.

चंद सिक्कों में बिकता है इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मुल्क में महंगाई बहुत है।

Chand Sikkon Me Bikta Hai Insaan Ka Zamir,
Kaun Kehta Hai Mulk Mein Mehgayi Bahut Hai.

यहाँ लिबास की कीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।

Yehan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi,
Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De.