Peene Se Kar Chuka Tha Tauba

पीने से कर चुका था मैं तौबा दोस्तों,
बादलों का रंग देख नीयत बदल गई।
Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Dosto,
Baadalo Ka Rang Dekh Neeyat Badal Gayi.

Sharab Shayari Peene Se Kar Chuka Tauba

मुखातिब हैं साकी की मख्मूर नजरें,
मेरे जर्फ का इम्तिहाँ हो रहा है।
Mukhatib Hain Saqi Ki Mkhmoor Najrein,
Mere Jarf Ka Imtihaan Ho Raha Hai.

मैकदे लाख बंद करें जमाने वाले,
शहर में कम नहीं आँखों से पिलाने वाले।
Maykade Laakh Band Karein Zamane Wale,
Shahar Mein Kam Nahi Aankho Se Pilane Wale.

Pila Kar Jaam Labon Se

Ye Zikr Sharab Ka Hai

You may also like