Gam Bhari Shayari

Tabahiyon Ka Gham Nahi

अपनी तबाहियों का मुझे कोई ग़म नहीं
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।
Apni Tabahiyon Ka Mujhe Koi Gham Nahi,
Tum Ne Kisi Ke Saath Mohabbat Nibha To Di.

Tabaahiyon Ka Gham Nahi - Gham Shayari

माना कि ग़म के बाद मिलती है मुस्कराहटें,
लेकिन जियेगा कौन? तेरी बेरुखी के बाद।
Mana Ke Gham Ke Baad Milti Hain Muskurahtein,
Lekin Jiyega Kaun? Teri Berukhi Ke Baad.

Advertisement

Shayari Gham Se Baatein Karna

हाल-ए-दिल अपना क्या सुनाएं आपको,
ग़म से बातें करना आदत है हमारी,
लोग मरते हैं सिर्फ एक बार सनम,
रोज पल-पल मरना किस्मत है हमारी।

Haal-e-Dil Apna Kya Sunaayein Aapko,
Gham Se Baatein Karna Aadat Hai Humari,
Log Marte Hain Sirf Ek Baar Sanam,
Roj Pal-Pal Marna Kismat Hai Humari.

Advertisement

Gham Ki Zulmat Raaton Mein

तेरी ज़ुल्फों की स्याही से न जाने कैसे,
ग़म की ज़ुल्मत मेरी रातों में चली आई है।

Teri Zulfon Ki Syaahi Se Na Jaane Kaise,
Gham Ki Zulmat Meri Raaton Mein Chali Aayi Hai.

Hindi Gam Shayari, Ai Shab-e-Gham

नींद आँखों में पिरोने की इजाज़त दे दे,
ऐ शब-ए-ग़म अब हमें सोने की इजाज़त दे दे।
Neend Aankhon Mein Pirone Ki ijaajat De De,
Ai Shab-e-Gham Ab Humein Sone Ki ijaajat De De.

Hindi Gam Shayari - Ai Shab-e-Gham

लोग कहते हैं वक्त किसी का गुलाम नही होता,
फिर क्यूँ थम सा जाता है ग़मों के दौर में?
Log Kehte Hain Ki Waqt Kisi Ka Gulam Nahi Hota,
Fir Kyun Tham Sa Jata Hai Ghamo Ke Daur Mein.

Advertisement

Gham Ki Andheri Raat Mein

एक किरन भी तो नहीं ग़म की अंधेरी रात में,
कोई जुगनू कोई तारा कोई आँसू कुछ तो होता।
Ek Kiran Bhi To Nahi Gham Ki Andheri Raat Mein,
Koi Jugnoo Koi Taara Koi Aansoo Kuchh To Hota.

तुम्हें पा लेते तो किस्सा ग़म का खत्म हो जाता,
तुम्हें खोया है तो यकीनन कहानी लम्बी चलेगी।
Tumhein Paa Lete To Kissa Gham Ka Khatm Ho Jata,
Tumhein Khoya Hai To Yakeenan Kahani Lambi Chalegi.