Gam Bhari Shayari

Tera Gham Salamat Hai, Gam Shayari

न हारा है इश्क न दुनिया थकी है,
दिया जल रहा है हवा चल रही है,
सुकून ही सुकून है खुशी ही खुशी है,
तेरा ग़म सलामत मुझे क्या कमी है।
Na Haara Hai Ishq Na Duniya Thaki Hai,
Diya Jal Raha Hai Hawa Chal Rahi Hai,
Sukoon Hi Sukoon Hai Khushi Hi Khushi Hai,
Tera Gham Salamat Mujhe Kya Kami Hai.

Tera Gham Salamat - Gham Shayari in Hindi

Advertisement

Gam Shayari in Hindi, To Gham Milte Hain

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हैं।
Hadd Se Barh Jaayein Talluk To Gham Milte Hain,
Hum Isee Vaste Ab Har Shakhs Se Kam Milte Hain.

ग़म किस को नहीं तुझको भी है मुझको भी है,
चाहत किसी एक की तुझको भी है मुझको भी है।
Gham Kis Ko Nahi Tujhko Bhi Hai MujhKo Bhi Hai,
Chahat Kisi Ek Ki TujhKo Bhi Hai MujhKo Bhi Hai.

Advertisement

Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti

लोग पढ़ लेते हैं आँखों से दिल की बात,
अब मुझसे तेरे ग़म की हिफाजत नहीं होती।
Log Parh Lete Hain Aankho Se Dil Ki Baat,
Ab Mujhse Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti.

Gham Ki Hifazat Shayari

ये मायूस सफर और ये ग़मगीन शाम,
मैं रुक तो जाऊं मगर कोई रोकता नहीं।
Ye Mayoos Safar Aur Ye Ghamgeen Shaam,
Main Ruk To Jaaun Magar Koi Rokta Nahi.

Gham Wali Shayari, Gujre Din Ke Gham

जिसे गुजरे दिन के ग़म से नहीं फुर्सत,
उसको नए साल की मुबारकबाद क्या देना।
Jise Gujre Din Ke Gham Se Nahi Fursat,
Usko Naye Saal Ki Mubaraqbaad Kya Dena.

शायद खुशी का दौर भी आ जाए एक दिन,
ग़म भी तो मिल गये थे तमन्ना किये बगैर।
Shayad Khushi Ka Daur Bhi Aa Jaye Ek Din,
Gham Bhi To Mil Gaye The Tamanna Kiye Bagair.

Advertisement

Kasam Apni Bhulaai Tumne

ग़म ये नहीं कि कसम अपनी भुलाई तुमने,
ग़म तो ये है कि रकीबों से निभाई तुमने,
कोई रंजिश थी अगर तुमको तो मुझसे कहते,
बात आपस की थी क्यूँ सब को बताई तुमने।

Gham Ye Nahi Ki Kasam Apni Bhulaai Tumne,
Gham To Ye Hai Ke Raqeebon Se Nibhaai Tumne,
Koi Ranjish Thi Agar TumKo To MujhSe Kehte,
Baat Aapas Ki Thi Kyun Sab Ko Bataai Tumne.