1. Home
  2. Gam Shayari
  3. Jo Gham Diye Hain Tumne

Jo Gham Diye Hain Tumne

Advertisement

Gham Shayari - Jo Gham Diye Hain Tumne

रखे हैं दिल में हमने बड़े एहतराम से,
जो ग़म दिए हैं तुमने मोहब्बत के नाम से।
Rakhe Hain Dil Mein Humne Bade Ehatraam Se,
Jo Gham Diye Hain Tumne Mohabbat Ke Naam Se.

इस से बढ़कर दोस्त कोई दूसरा होता नहीं,
सब जुदा हो जायें लेकिन ग़म जुदा होता नहीं।
Iss Se BarhKar Dost Koi Doosra Hota Nahi,
Sab Juda Ho Jayein Lekin Gham Juda Hota Nahi.

Advertisement

हर हाल में हँसने का हुनर पास था जिनके,
वो रोने लगे हैं तो कोई बात तो होगी।
Har Haal Mein Hansne Ka Hunar Paas Tha Jinke,
Wo Rone Lage Hain To Koi Baat To Hogi.

दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है,
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से।
Duniya Bhi Mili Ghame-e-Duniya Bhi Mili Hai,
Wo Kyun Nahi Milta Jise Manga Tha Khuda Se.

हर ग़म से वास्ता रहा है हमारा साहब,
इलाज हम से बेहतर हकीम क्या बतायेंगे।
Har Gham Se Wasta Raha Hai Humara Sahab,
Ilaaj Hum Se Behtar Haqeem Kya Bateyenge.

Advertisement

Gham Chhupane Ke Liye

Gam Bhari Shayari, Gham Ka Fasana Hai