Gam Bhari Shayari

Thoda Gham Hai Sabka Kissa

ये जो गहरे सन्नाटे हैं वक्त ने सबको ही बाँटें हैं,
थोड़ा ग़म है सबका किस्सा थोड़ी धूप है सबका हिस्सा।
Ye Jo Gehre Sannate Hain Waqt Ne Sabko Baante Hain,
Thoda Gham Hai Sabka Kissa Thodi Dhoop Hai Sabka Hissa.

Thoda Gham Thodi Dhoop Shayari

जश्न-ए-शब में मेरी कभी जल न सका इश्क़ का दिया,
वो अपनी अना में रही और मैंने अपने ग़मों को ज़िया।
Jashn-e-Shab Mein Meri Kabhi Jal Na Saka Ishq Ka Diya,
Wo Apni Anaa Mein Rehi Aur Maine Apne Ghamon Ko Jiya.

Advertisement

Himmat Hai Gham Uthhane Ki?

किसी ने जैसे कसम खाई हो सताने की,
हमीं पे खत्म हैं सब गर्दिशें जमाने की,
सुकून तो खैर हमें नसीब क्या होगा,
कहो अभी भी हिम्मत है ग़म उठाने की।

Kisi Ne Jaise Kasam Khayi Ho Sataane Ki,
Humin Pe Khatm Hain Gardishein Zamane Ki,
Sukoon To Khair Humein Naseeb Kya Hoga,
Kaho Abhi Bhi Himmat Hai Gham Uthhane Ki.

Advertisement

Gham Shayari, Ghamon Ne Sahara Diya

जब भी ठोकर लगी तेरे प्यार में मुझे,
मुझको मेरे ग़मों ने सहारा बहुत दिया।
Jab Bhi Thokar Lagi Tere Pyar Mein Mujhe,
MujhKo Mere Ghamon Ne Sahara Bahut Diya.

निकल आते हैं आँसू हँसते-हँसते,
ये किस ग़म की कसक है हर खुशी में।
Nikal Aate Hain Aansoo Hanste-Hanste,
Yeh Kis Gham Ki Kasak Hai Har Khushi Mein.

Barbadi Ke Afsane Kahan Jaate

ना मिलता ग़म तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते,
चमन होती अगर दुनिया तो वीराने कहाँ जाते,
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई गैर तो निकला,
सभी होते अगर अपने तो बेगाने कहाँ जाते।

Na Milta Gham To Barbadi Ke Afsane Kahan Jaate,
Chaman Hoti Agar Duniya To Veerane Kahan Jaate,
Chalo Achchha Hua Apno Mein Koi Gair To Nikla,
Sabhi Hote Agar Apne To Begaane Kahan Jaate.

Barbaadi Ke Afsaane Ghum Shayari

Advertisement

Kaun Rota Hai Kisi Ki Khatir

कौन रोता है किसी और की खातिर ऐ दोस्त,
सबको अपनी ही किसी बात पे रोना आया।
Kaun Rota Hai Kisi Aur Ki Khatir Ai Dost,
SabKo Apni Hi Kisi Baat Pe Rona Aaya.

ग़म-ए-हयात ने आवारा कर दिया वरना,
थी आरज़ू कि तेरे दर पे सुबह-ओ-शाम करें।
Gham-e-Hayat Ne Aawara Kar Diya Varna,
Thi Aarzoo Ke Tere Dar Pe Subah-o-Shaam Karein.