Shayari Gham Ne Hausla Diya

Advertisement

Gham Ne Hausla Diya Shayari

हर ग़म ने हर सितम ने नया हौसला दिया,
मुझको मिटाने वाले ने मुझको बना दिया।
Har Gham Ne Har Sitam Ne Naya Hausla Diya,
Mujhko Mitaane Wale Ne Mujhko Bana Diya.

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
बस इसीलिए हम तुझसे अब कम मिलते हैं।
Had Se Barh Jaye Talluk Toh Gham Milte Hain,
Bas Isiliye Hum Tujhse Ab Kam Milte Hain.

Advertisement

ऐ ज़ब्त-ए-इश्क़ और ना ले इम्तिहान-ए-ग़म,
मैं रो रहा हूँ नाम किसी का लिये बगैर।
Ai Zabt-e-Ishq Aur Na Le Imtehaan-e-Gham,
Main Ro Raha Hoon Naam Kisi Ka Liye Baghair.

मेरे ग़मख्वार मेरे दोस्त तुझे क्या मालूम,
जिन्दगी मौत के मानिन्द गुजारी मैंने।
Mere Ghamkhwar Mere Dost Tujhe Kya Maloom,
Zindagi Maut Ke Manind Gujaari Maine.

Advertisement

Gham Chhupane Ke Liye

Takdeer Mein Likhe The Gham

Advertisement

You may also like