Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti

Advertisement

लोग पढ़ लेते हैं आँखों से दिल की बात,
अब मुझसे तेरे ग़म की हिफाजत नहीं होती।
Log Parh Lete Hain Aankho Se Dil Ki Baat,
Ab Mujhse Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti.

Gham Ki Hifazat Shayari

ये मायूस सफर और ये ग़मगीन शाम,
मैं रुक तो जाऊं मगर कोई रोकता नहीं।
Ye Mayoos Safar Aur Ye Ghamgeen Shaam,
Main Ruk To Jaaun Magar Koi Rokta Nahi.

Advertisement

तेज रफ़्तार ज़िन्दगी का ये आलम है दोस्तों,
सुबह के ग़म भी शाम को पुराने लगते हैं।
Tej Raftaar Zindagi Ka Ye Aalam Hai Dosto,
Subah Ke Gham Bhi Sham Ko Puraane Lagte Hain.

सिर्फ ज़िन्दा रहने को ज़िन्दगी नहीं कहते,
कुछ ग़मे-मोहब्बत हो कुछ ग़मे-जहान हो।
Sirf Zinda Rahne Ko Zindagi Nahi Kehte,
Kuchh Gham-e-Mohabbat Ho Kuchh Gham-e-Jahan Ho.

Advertisement

Gham Wali Shayari, Gujre Din Ke Gham

Gam Shayari in Hindi, To Gham Milte Hain

Advertisement

You may also like