2 Line Shayari, Kismat Ki Pari

Advertisement

बंद मुट्ठी से जो उड़ जाती है क़िस्मत की परी,
इस हथेली में कोई छेद पुराना होगा।
Band Mutthi Se Jo Ud Jati Hai Kismat Ki Pari,
Iss Hatheli Mein Koi Chhed Purana Hoga.

Kismat Ki Pari Two Line Hindi Shayari

मुझे ऊँचाइओं पर देखकर हैरान है बहुत लोग,
‪‎पर‬ किसी ने मेरे पैरो के छाले नहीं देखे।
Mujhe Uchayion Par Dekhkar Hairan Hain Bahut Log,
Par Kisi Ne Mere Pairon Ke Chhale Nahi Dhekhe.

Advertisement

इस भीड़ में अपना नजर आये कोई मुझको,
मैं गुमशुदा बच्चे की तरह खौफज़दा हूँ।
Iss Bheed Mein Apna Najar Aaye Koi MujhKo,
Main Gunshuda Bachche Ki Tarah Khaufjada Hoon.

खूबियाँ लाख किसी में हों तो जाहिर न करें,
लोग करते हैं बुरी बात का चर्चा कैसा।
Khoobiyan Lakh Kisi Mein Hon To Jaahir Na Karein,
Log Karte Hain Buri Baat Ka Charcha Kaisa.

Advertisement

Two Line Shayari, Kirdaaron Ke Faisle

Zamana Badal Gaya Kaise

Advertisement

You may also like