Unchi Magar Aukaat Rakhi Hai

Unchi Aukat Attitude Shayari in Hindi

मिला हूँ खाक में ऊँची मगर औकात रखी है,
तुम्हारी बात थी आखिर तुम्हारी बात रखी है,
भले ही पेट की खातिर कहीं दिन बेच आया हूँ,
तुम्हारी याद की खातिर भी पूरी रात रखी है।

Mila Hoon Khaak Mein Unchi Magar Aukaat Rakhi Hai,
Tumhari Baat Thi Aakhir Tumhari Baat Rakhi Hai,
Bhale Hi Pet Ki Khatir Kahin Din Bech Aaya Hoon,
Tumhari Yaad Ki Khatir Bhi Poori Raat Rakhi Hai.

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो,
मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो,
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते क्यों हो,
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।

Abhi Suraj Nahi Dooba Jara Si Shaam Hone Do,
Main Khud Hi Laut Jaunga Mujhe Nakaam Hone Do,
Mujhe Badnaam Karne Ka Bahana Dhoondhte Kyun Ho,
Main Khud Ho Jaunga Badnaam Pehle Naam Hone Do.

Sikke Humare Mijaaz Ke

To Humse Pyar Karo

You may also like