Tough Attitude, Usey Mudkar Nahi Dekha

Advertisement

महबूब का घर हो या फरिश्तों की हो ज़मीं,
जो छोड़ दिया फिर उसे मुड़ कर नहीं देखा।
Mahboob Ka Ghar Ho Ya Farishton Ki Ho Zamin,
Jo Chhod Diya Fir Usey Mudkar Nahi Dekha.

Tough Attitude Shayari in Hindi

एक इसी उसूल पर गुजारी है ज़िन्दगी मैंने,
जिसको अपना माना उसे कभी परखा नहीं।
Ek Isee Usool Par Gujaari Hai Zindagi Maine,
Jisko Apna Maana Usey Kabhi Parkha Nahin.

आग लगाना मेरी फितरत में नहीं है,
मेरी सादगी से लोग जलें तो मेरा क्या कसूर।
Aag Lagana Meri Fitrat Mein Nahi Hai,
Meri Saadgi Se Log Jale To Mera Kya Kasoor.

Advertisement

पत्थर भी तो अब मुझसे किनारा करने लगे,
कि तुम ना सुधरोगे मेरी ठोकरें खा कर।
Patthar Bhi To Ab Mujhse Kinaara Karne Lage,
Ki Tum Na Sudhroge Meri Thokarein Kha Kar.

जुबां पर मोहर लगाना कोई बड़ी बात नहीं,
बदल सको तो बदल दो मेरे खयालों को।
Jubaan Par Mohar Lagana Koi Badi Baat Nahi,
Badal Sako To Badal Do Mere Khayalon Ko.

जलजले ऊँची इमारत को गिरा सकते हैं,
मैं तो बुनियाद हूँ मुझे कोई खौफ नहीं।
Zalzale Unchi Imaarat Ko Gira Sakte Nahi,
Main To Buniyaad Hoon Mujhe Koi Khauf Nahi.

Advertisement

Bas Mujhe Utna Samajh

Dushman Bhi Mere Mureed Hain

Advertisement

You may also like