Gumaan Na Kar Apne Dimaag Par

गुमान ना कर अपने दिमाग पर ऐ दोस्त,
जितना तेरे पास है उतना तो मेरा खराब रहता है।
Gumaan Na Kar Apne Dimaag Par Ai Dost,
Jitna Tere Paas Hai Utna Mera Kharab Rehta Hai.

Gumaan Na Kar Apne Dimaag Par Attitude Shayari

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ,
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।
Aksar Wahi Log Uthhate Hain Hum Par Ungliyan,
Jinki Humein Chhoone Ki Aukaat Nahi Hoti.

अगर लोग यूँ ही कमियां निकालते रहे तो,
एक दिन सिर्फ खूबियाँ रह जायेगी मुझमें।
Log Agar Yoon Hi Kamiyan Nikalte Rahe To,
Ek Din Sirf Khoobiyan Reh Jayengi Mujh Mein.

रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना,
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना।
Ruthha Hua Hai Mujhse Iss Baat Par Zamana,
Shamil Nahin Hai Meri Fitrat Mein Sar Jhukana.

Attitude Shayari Meri Saadgi

Baat Guroor Ki Nahi Aitwaar Ki Hai

You may also like