Gam Bhari Shayari

Shayari Gham Ne Hausla Diya

Gham Ne Hausla Diya Shayari

हर ग़म ने हर सितम ने नया हौसला दिया,
मुझको मिटाने वाले ने मुझको बना दिया।
Har Gham Ne Har Sitam Ne Naya Hausla Diya,
Mujhko Mitaane Wale Ne Mujhko Bana Diya.

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
बस इसीलिए हम तुझसे अब कम मिलते हैं।
Had Se Barh Jaye Talluk Toh Gham Milte Hain,
Bas Isiliye Hum Tujhse Ab Kam Milte Hain.

Advertisement

Gham Chhupane Ke Liye

जब भी करीब आता हूँ बताने के लिए,
जिंदगी दूर कर देती है सताने के लिए,
महफ़िलों की शान न समझना मुझे,
मैं अक्सर हँसता हूँ ग़म छुपाने के लिए।

Jab Bhi Kareeb Aata Hoon Bataane Ke Liye,
Zindagi Door Kar Deti Hai Sataane Ke Liye,
Mehfilon Ki Shaan Na Samjhna MujhKo,
Main Aksar Hansta Hoon Gham Chhupane Ke Liye,

Advertisement

Jo Gham Diye Hain Tumne

Gham Shayari - Jo Gham Diye Hain Tumne

रखे हैं दिल में हमने बड़े एहतराम से,
जो ग़म दिए हैं तुमने मोहब्बत के नाम से।
Rakhe Hain Dil Mein Humne Bade Ehatraam Se,
Jo Gham Diye Hain Tumne Mohabbat Ke Naam Se.

इस से बढ़कर दोस्त कोई दूसरा होता नहीं,
सब जुदा हो जायें लेकिन ग़म जुदा होता नहीं।
Iss Se BarhKar Dost Koi Doosra Hota Nahi,
Sab Juda Ho Jayein Lekin Gham Juda Hota Nahi.

Gam Bhari Shayari, Gham Ka Fasana Hai

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,
मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है,
पुकारा है तुझे मंजिल ने लेकिन मैं कहाँ जाऊं,
बिछड़ कर तेरी दुनिया से कहाँ मेरा ठिकाना है।

Shiqayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka Fasaana Hai,
Mere Aage Mohabbat Hai Tere Aage Zamana Hai,
Pukara Hai Tujhe Manzil Ne Lekin Main Kahan Jaaun,
Bichhad Kar Teri Duniya Se Kahan Mera Thhikana Hai.

Advertisement

Shayari Akele Rahne Ka Gham

Humein Mat Sataao Hum Sataye Huye Hain,
Akele Rahne Ka Gham Uthhaye Huye Hain,
Yoon Khilona Samajh Kar Na Khelo Hum Se,
Hum Bhi Usi Khuda Ke Banaye Huye Hain.

हमें मत सताओ हम सताए हुए हैं,
अकेले रहने का ग़म उठाये हुए हैं,
यूँ खिलौना समझ कर न खेलो हमसे,
हम भी उसी खुदा के बनाये हुए हैं।