Attitude Poetry, Gustakhi Na Karna

Advertisement

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,
मैं पहले भी कई तूफानों के रुख मोड़ चुका हूँ।
Meri Himmat Ko Parakhne Ki Gustakhi Na Karna,
Main Pehle Bhi Kayi Toofano Ke Rukh Mod Chuka Hu.

रहते हैं आस-पास ही लेकिन पास नहीं होते,
कुछ लोग मुझसे जलते हैं बस ख़ाक नहीं होते।
Rehte Hain Aas-Paas Hi Lekin Saath Nahi Hote,
Kuchh Log Mujhse Jalte Hain Bas Khaaq Nahi Hote.

Advertisement

क़ाफ़िले में पीछे हूँ कुछ बात होगी वरना,
मेरी ख़ाक भी न पाते मेरे साथ चलने वाले।
Kafile Mein Peechhe Hoon Kuchh Baat Hogi Varna,
Meri Khaak Bhi Na Paate Mere Sath Chalne Wale.

खोटे सिक्के हैं अभी-अभी चले हैं बाजार में,
वो कमियाँ निकाल रहे हैं मेरे किरदार में।
Khote Sikke Hain Abhi-Abhi Chale Hain Bazar Mein,
Wo Kamiyan Nikaal Rahe Hain Mere Kirdaar Mein.

Advertisement

Attitude Shayari for Boy, Jeene Ka Hunar

Zidd Ke Pakke Hain Hum

Advertisement

You may also like