Ishq Se Intekaam Liya Maine

कल क्या खूब इश्क़ से इन्तकाम लिया मैंने,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे जला दिया।
Kal Kya Khoob Ishq Se Intekaam Liya Maine,
Kagaz Par Likha Ishq Aur Use Jala Diya.

औरों के पास जा के मेरी दास्तान न पूछ,
कुछ तो मेरे चेहरे पे लिखा हुआ भी देख।
Auron Ke Paas Ja Ke Meri Daastan Na Poochh,
Kuchh To Mere Chehare Pe Likha Hua Bhi Dekh.

टूट कर रह गया है खुद से रिश्ता अपना,
एक मुद्दत हुई कि देखा नहीं चेहरा अपना।
Toot Kar Reh Gaya Hai Khud Se Rishta Apna,
Ek Muddat Hui Ki Dekha Nahi Chehra Apna.

देखी है बेरुखी की आज हमने इन्तेहाँ,
हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए।
Dekhi Hai Berukhi Ki Aaj Humne Intehaan,
Hum Pe Najar Padi To Mehfil Se Uthh Gaye.

क्या खूब ही होता अगर दुख रेत के होते,
मुठ्ठी से गिरा देते... पैरो से उड़ा देते।
Kya Khoob Hi Hota Agar Dukh Ret Ke Hote,
Muththhi Se Gira Dete Pairon Se Uda Dete.

Main Shaam Ka Manzar Hota

Usne Sataya Bhi Nahi

You may also like