Zakhm Zindagi Se Mile

Advertisement

ज़ख्म क्या क्या न ज़िन्दगी से मिले,
ख्वाब पलकों से बे-रुखी से मिले,
आप को मिल गए हैं किस्मत से,
हम ज़माने में कब किसी को मिले?
Zakhm Kya Kya Na Zindagi Se Mile,
Khwaab Bhi Palkon Se Be-Rukhi Se Mile,
Aap Ko Mil Gaye Hain Kismat Se,
Hum Zamane Mein Kab Kisi Ko Mile?

Zakhm Zindagi Se Mile Sad Shayari

Advertisement

आँसू आ जाते हैं रोने से पहले,
ख्वाब टूट जाते हैं सोने से पहले,
लोग कहते हैं मोहब्बत गुनाह है,
कोई रोक लेता इसे होने से पहले।
Aansoo Aa Jate Hain Rone Se Pehle,
Khwaab Toot Jate Hain Sone Se Pehle,
Log Kehte Hain Mohabbat Gunaah Hai,
Koyi Rok Leta Ise Hone Se Pehle.

तरसते थे जो मिलने को हमसे कभी,
आज वो क्यों मेरे साए से कतराते हैं,
हम भी वही हैं दिल भी वही है,
न जाने क्यों लोग बदल जाते हैं।
Taraste The Jo Milne Ko Humse Kabhi,
Aaj Wo Kyun Mere Saaye Se Katrate Hain,
Hum Bhi Wahi Hain Dil Bhi Wahi Hai,
Na Jaane Kyun Log Badal Jaate Hain.

Advertisement

Sadness Shayari, Koi Mila Hi Nahi

Sad Hindi Shayari, Har Kahani Har Kisse

Advertisement

You may also like