Waseem Barelvi Shayari Collection

किसी को कैसे बताएँ जरूरतें अपनी,
मदद मिले न मिले आबरू तो जाती है।
Kisi Ko Kaise Batayein Jaruratein Apni,
Madad Mile Na Mile Aabroo To Jaati Hai.

Waseem Barelvi Shayari Collection

उनसे कह दो मुझे ख़ामोश ही रहने दे 'वसीम',
लब पे आएगी तो हर बात गिराँ गुज़रेगी।
Unse Keh Do Mujhe Khamosh Hi Rehne De Waseem,
Lab Pe Aayegi To Har Baat Giraan Gujregi.

वो मेरे घर नहीं आता मैं उसके घर नहीं जाता,
मगर इन एहतियातों से तअल्लुक़ मर नहीं जाता।
Wo Mere Ghar Nahi Aata Main Uske Ghar Nahi Jata,
Magar Inn Ehtiyaton Se Taalluk Mar Nahi Jata.

वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए,
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता।
Waise To Ek Aansoo Hi Baha Kar Mujhe Le Jaye,
Aise Koi Toofan Hila Bhi Nahi Sakta.

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं,
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है।
Sharafaton Ki Yahan Koi Ahemiyat Hi Nahi,
Kisi Ka Kuchh Na Bigaado To Darrta Kaun Hai.

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में,
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए।
Usee Ko Jeene Ka Haq Hai Jo Iss Zamane Mein,
Idhar Ka Lagta Rahe Aur Udhar Ka Ho Jaye.

फूल तो फूल हैं आँखों से घिरे रहते हैं,
काँटे बेकार हिफ़ाज़त में लगे रहते हैं।
Phool To Phool Hain Aankhon Se Gire Rehte Hain,
Kaante Bekaar Hifazat Mein Lage Rehte Hain.

हम ये तो नहीं कहते कि हम तुझसे बड़े हैं,
लेकिन ये बहुत है कि तेरे साथ खड़े हैं।
Hum Ye To Nahi Kehte Ki Hum Tujhse Bade Hain,
Lekin Ye Bahut Hai Ki Tere Saath Khade Hain.

Aasmaan Bulandi Pe Itraata Hai Shayari

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है,
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है।
Aasmaan itni Bulandi Pe Jo Itraata Hai,
Bhool Jata Hai Zamin Se Hi Najar Aata Hai.

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है,
समुंदरों ही के लहजे में बात करता है।
Jara Sa Qatra Kahin Aaj Agar Ubharta Hai,
Samundaron Hi Ke Lehje Mein Baat Karta Hai.

हमारे घर का पता पूछने से क्या हासिल,
उदासियों की कोई शहरियत नहीं होती।
Humare Ghar Ka Pata Puchhne Se Kya Hasil,
Udaasiyon Ki Koi Shahariyat Nahi Hoti.

दुख अपना अगर हमको बताना नहीं आता,
तुमको भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता।
Dukh Apna Agar Humko Batana Nahi Aata,
Tumko Bhi To Andaza Lagana Nahi Aata.

मोहब्बत में बिछड़ने का हुनर सब को नहीं आता,
किसी को छोड़ना हो तो मुलाक़ातें बड़ी करना।
Mohabbat Mein Bichhadne Ka Hunar Sabko Nahi Aata,
Kisi Ko Chhodna Ho To Mulakaatein Badi Karna.

ग़म और होता सुन के गर आते न वो 'वसीम',
अच्छा है मेरे हाल की उनको ख़बर नहीं।
Gham Aur Hota Sunke Gar Aate Na Wo Waseem,
Achchha Hai Mere Haal Ki Unko Khabar Nahi.

इसी ख़याल से पलकों पे रुक गए आँसू,
तिरी निगाह को शायद सुबूत-ए-ग़म न मिले।
Isee Khayal Se Palkon Pe Ruk Gaye Aansoo,
Teri Nigaah Ko Shayad Suboot-e-Gham Na Mile.

Best Shayari of Waseem Barelvi

जो मुझ में तुझ में चला आ रहा है बरसों से,
कहीं हयात इसी फ़ासले का नाम न हो।
Jo Mujhmein Tujhmein Chala Aa Raha Hai Barson Se,
Kahin Hayat Isee Faasle Ka Naam Na Ho.

तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों,
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है।
Tum Aa Gaye Ho To Kuchh Chaandni Si Baatein Hon,
Zamin Pe Chaand Kahan Roz Roz Utarta Hai.

तुम मेरी तरफ़ देखना छोड़ो तो बताऊँ,
हर शख़्स तुम्हारी ही तरफ़ देख रहा है।
Tum Meri Taraf Dekhna Chhodo To Bataaun,
Har Shakhs Tumhari Hi Taraf Dekh Raha Hai.

Mir Taqi Mir Shayari Collection

Rahat Indori Shayari Collection

You may also like