Maut Shayari, Maut Muqaddar Ho Gayi

Advertisement

Maut Shayari - Maut Muqaddar Ho Gayi

ये जमीं जब खून से तर हो गई है,
ज़िन्दगी कहते हैं बेहतर हो गई है,
हाथ पर मत खींच बेमतलब लकीरें,
मौत हर पल अब मुक़द्दर हो गई है।

Ye Zameen Jab Khoon Se Tar Ho Gayi Hai,
Zindagi Kahte Hain Behtar Ho Gayi Hai,
Hath Par Mat Kheench BeMatlab Lakeerein,
Maut Har Pal Ab Muqaddar Ho Gayi Hai.

Advertisement

हम अपनी मौत खुद मर जायेंगे सनम,
आप अपने सर पर क्यूँ इलज़ाम लेते हो,
जालिम है दुनिया जीने न देगी आपको,
आप क्यूँ अपनी जुबां से मेरा नाम लेते हो।

Apni Maut Khud Mar Jaayenge Sanam,
Aap Apne Sar Par Kyu iljaam Lete Ho,
Jaalim Hai Duniya Na Jeene Degi AapKo,
Aap Kyu Apni Jubaa Se Mera Naam Lete Ho.

 

Advertisement

Hindi Death Poetry, Mujhe Rulakar Sona

Meri Maut Ka Manjar Shayari

Advertisement

You may also like