Love Shayari, Lafz-e-Mohabbat

Advertisement

लम्हों में क़ैद कर दे जो सदियों की चाहतें,
हसरत रही कि ऐसा कोई अपना तलबगार हो।
Lamhon Mein Qaid Kar De Jo Sadiyon Ki Chahatein,
Hasrat Rahi Ke Aisa Koi Apna Talabgar Ho.

यही बहुत है कि तुमने पलट के देख लिया,
ये लुत्फ़ भी मेरी उम्मीद से कुछ ज्यादा है।
Yahi Bahut Hai Ke Tumne Palat Ke Dekh Liya,
Yeh Lutf Bhi Meri Ummeed Se Kuchh Zyada Hai.

Advertisement

इस लफ्ज-ए-मोहब्बत का इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिल-ए-आशिक बिखरे तो जमाना है।
Iss Lafz-e-Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,
Simte To Dil-e-Aashiq Bikhre To Zamana Hai.

Lafz-e-Mohabbat Hindi Love Shayari

वो मोहब्बत के सौदे भी अजीब करता है,
बस मुस्कुराता है और दिल खरीद लेता है।
Wo Mohabbat Ke Saude Bhi Azeeb Karta Hai,
Bas Muskurata Hai Aur Dil Khareed Leta Hai.

Advertisement

Mohabbat Ki Shuruat

Reh Na Paaoge Tum

Advertisement

You may also like