Kambakht Mohabbat Hi Huyi

Advertisement

हाल तो पूछ लूँ तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी,
जब जब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।
Haal To Puchh Lu Tera Par Darrta Hun Aawaz Se Teri,
Jab Jab Suni Hai Kambakht Mohabbat Hi Huyi Hai.

Aawaz Se Mohabbat Shayari

Advertisement

परवाने को शमा पर जल कर कुछ तो मिलता होगा,
सिर्फ मरने की खातिर तो कोई प्यार नहीं करता।
Parwane Ko Shamma Par Jal Kar Kuchh To Milta Hoga,
Sirf Marne Ki Khatir To Koyi Kisi Se Pyaar Nahi Karta.

इश्क़ करने से पहले जात नहीं पूछी जाती महबूब की,
कुछ तो है दुनिया में जो आज तक मज़हबी नहीं हुआ।
Ishq Karne Se Pahle Jaat Nahi Puchhi Jati Mahboob Ki,
Kuchh To Hai Duniya Me Jo Aaj Tak Mazhabi Nahi Hua.

मैं देखूँ तो सही यह दुनिया तुझे कैसे सताती है,
कोई दिन के लिए तुम अपनी निगहबानी मुझे दे दो।
Main Dekhu To Sahi Yeh Duniya Tujhe Kaise Satati Hai,
Koi Din Ke Liye Tum Apni NigehBani Mujhe De Do.

Advertisement

Kuchh Likh Nahi Paate Shayari

Sirf Paane Ka Naam Ishq Nahi

Advertisement

You may also like