Two Line Dard Shayari, Dard Ehsaas Ko

Advertisement

आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता।

Aankhon Mein Umad Aata Hai Baadal Ban Kar,
Dard Ehsaas Ko Banjar Nahi Rehne Deta.

Dard Shayari - Dard Aur Ehsaas

अब तुम न कर सकोगे मेरे दर्द का इलाज़,
ज़ख्म को नासूर हुए मुद्दतें गुजर गयीं।

Ab Tum Na Kar Sakoge Mere Dard Ka ilaaj,
Zakhm Ko Nasoor Huye Muddatein Gujar Gayi.

Advertisement

दुरुस्त कर ही लिया मैंने नजरिया अपना,
कि दर्द न हो तो मोहब्बत मजाक लगती है।

Durust Kar Hi Liya Maine Najariya Apna,
Ke Dard Na Ho To Mohabbat Majaak Lagti Hai.

खंजर चले किसी पे तो तड़पते हैं हम,
सारे जहां का दर्द हमारे जिगर में है।

Khanjar Chale Kisi Pe To Tadapte Hain Hum,
Saare Jahaan Ka Dard Humare Jigar Mein Hai.

Advertisement

Dard Shayari, Dard Barha Deta Hai

Duniya Ke Andhere Dard Bhari Shayari

Advertisement

You may also like