Tum Se Bichhad Ke

तुम से बिछड़ के कुछ यूँ वक़्त गुज़ारा,
कभी ज़िंदगी को तरसे कभी मौत को पुकारा।
Tum Se Bichhad Ke Kuchh Yoon Waqt Gujaara,
Kabhi Zindagi Ko Tarse Kabhi Maut Ko Pukara.

Alone Shayari - Tumse Bichhad Ke

खुदा करे के तेरी उम्र में गिने जाये,
वो दिन जो हमने तेरे हिज्र में गुजारे है।
Khuda Kare Ki Teri Umr Mein Gine Jayein,
Wo Din Jo Humne Tere Hijr Mein Gujaare Hain.

तेरे सहारे मौत से लड़ता रहा ता-ज़िंदगी,
क्या करूँ इस ज़िंदगी का मैं बता तेरे बिना।
Tere Sahaare Maut Se Ladta Raha Ta-Zindagi,
Kya Karun Iss Zindagi Ka Main Bata Tere Bina.

उनसे मुलाक़ात के सिलसिले क्या बन्द हुए,
मुद्दतें बीती हैं आईने से रूबरू हुए।
Unse Mulakat Ke SilSile Kya Band Huye,
Muddatein Beeti Hain Aayine Se RuBaRu Huye.

Akele Hi Gujar Jaati Hai

Alone Shayari, Meri Tanhaai

You may also like