Bichhad Ke Roj Milta Hai

बिछड़ के भी वो रोज मिलता है मुझे ख्वाबों में,
अगर ये नींद न होती तो कब के मर गए होते।
Bichhad Ke Bhi Wo Roj Milta Hai Mujhe Khwaabon Mein.
Agar Ye Neend Na Hoti To Kab Ke Mar Gaye Hote.

Bichhad Ke Roj Milta Hai Shayari

यूँ तो हर रंग का मौसम मुझसे वाकिफ है मगर
रात की तन्हाई पर मुझे कुछ अलग ही जानती है।
Yoon To Har Rang Ka Mausam Mujhse Waaqif Hai Magar,
Raat Ki Tanhai Par Mujhe Kuchh Alag Hi Janti Hai.

जरुरत जब भी थी मुझको किसी के साथ की,
उन्हीं मखसूस लम्हों में मुझे छोड़ा है अपनों ने।
Jaroorat Jab Bhi Thi Mujh Ko Kisi Ke Saath Ki,
Unhi Makhsoos Lamhon Mein Mujhe Chhoda Hai Apno Ne.

Jahan Tanha Miloge Tum

Tanhaai Ki Raat Kat Jayegi

You may also like