Tanha Shayari, Rote Hain Tanha Dekh Kar

Rote Hain Tanha Raste Shayari

रोते हैं तन्हा देख कर मुझको वो रास्ते,
जिन पे तेरे बगैर मैं गुजरा कभी न था।
Rote Hain Tanha Dekh Kar Mujhko Wo Raaste,
Jin Pe Tere Bagair Main Gujra Kabhi Na Tha.

तेरे वजूद की खुशबु बसी है साँसों में,
ये और बात है नजरों से दूर रहते हो।
Tere Wajood Ki Khushbo Basi Hai Saanson Mein,
Ye Aur Baat Hai Najron Se Door Rehete Ho.

तेरे जलवों ने मुझे घेर लिया है ऐ दोस्त,
अब तो तन्हाई के लम्हे भी हसीं लगते हैं।
Tere Jalwon Ne Mujhe Gher Liya Hai Ai Dost,
Ab Tanhaai Ke Lamhe Bhi Haseen Lagte Hain.

ऐ शमा तुझपे ये रात भारी है जिस तरह,
हमने तमाम उम्र गुजारी है उस तरह।
Ai Shama Tujhpe Ye Raat Bhaari Hai Jis Tarah,
Humne Tamaam Umr Gujaari Hai Uss Tarah.

तुम्हारे बगैर ये वक़्त, ये दिन, और ये रात,
गुजर तो जाते हैं मगर गुजारे नहीं जाते।
Tumhare Bagair Ye Waqt, Ye Din, Aur Ye Raat,
Gujar To Jaate Hain Magar Gujaare Nahi Jaate.

Tanhai Shayari, Aaj Ki Raat Tanha Hai

Tujhse Bichhadne Ke Baad Loneliness Poetry

You may also like