Bhool Jana Mushkil Nahi

भूल जाना उसे मुश्किल तो नहीं है लेकिन,
काम आसान भी हमसे कहाँ होते हैं।
Bhool Jana Use Mushkil To Nahi Hai Lekin,
Kaam Aasaan Bhi Hum Se Kahan Hote Hain.

Bhool Jana Usey Mushkil Yaad Shayari

गुजर गई है मगर रोज याद आती है,
वो एक शाम जिसे भूलने की हसरत है।
Gujar Gayi Hai Magar Roj Yaad Aati Hai,
Wo Ek Shaam Jise Bhoolne Ki Hasrat Hai.

क़ज़ा समझकर हम रातों को जाग लेते हैं,
ज़िक्र जिस दिन तुम्हारा छूट जाता है।
Qaza Samajh Kar Raaton Ko Jaag Lete Hain,
Zikr Jis Din Tumhara Chhoot Jata Hai.

ढूंढ़ रहा हूँ लेकिन नाकाम हूँ अब तक,
वो लम्हा जिसमें तू मुझे याद न आता हो।
Dhhoond Raha Hoon Lekin Naakam Hoon Ab Tak,
Wo Lamha Jisme Tu Mujhe Yaad Na Aata Ho.

मेरी कोशिश कभी कामयाब न हो सकी,
न तुझे पाने की न तुझे भुलाने की।
Meri Koshish Kabhi Kamyaab Na Ho Saki,
Na Tujhe Pane Kii Na Tujhe Bhulane Ki.

Wo Aur Bhi Yaad Aane Lage

Missing U Shayari, Teri Yaad Ka Aana

You may also like