Shayari Insaan Ki Khwahishein

Advertisement

इंसान की ख़्वाहिशों की... कोई इन्तेहाँ नहीं,
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद।

Insaan Ki Khwahishon Ki... Koi Inteha Nahi,
Do Ghaz Zamin Bhi Chahiye Do Ghaz Kafan Ke Baad.

चंद सिक्कों में बिकता है इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मुल्क में महंगाई बहुत है।

Advertisement

Chand Sikkon Me Bikta Hai Insaan Ka Zamir,
Kaun Kehta Hai Mulk Mein Mehgayi Bahut Hai.

यहाँ लिबास की कीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।

Yehan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi,
Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De.

Advertisement

Jinhein Mahsoos Insaano Ke

Insaniyat Shayari, Hum Insaan Hain

Advertisement

You may also like