Ai Zindagi Todkar Bikher De

Advertisement

ऐ ज़िन्दगी, तोड़ कर हमको ऐसे बिखेर दे इस बार,
न फिर से टूट पायें हम, और न फिर से जुड़ पाए तू।
Ai Zindagi, Todkar Humko Aise Bikher De Iss Baar,
Na Fir Se Toot Payein Hum, Aur Na Fir Se Jud Paye Tu.

नजरिया बदल के देख, हर तरफ नजराने मिलेंगे,
ऐ ज़िन्दगी यहाँ तेरी तकलीफों के भी दीवाने मिलेंगे।
Najariya Badal Ke Dekh Har Taraf Najraane Milenge,
Ai Zindagi Yehan Teri Takleefon Ke Bhi Deewane Milenge.

Advertisement

जब भी सुलझाना चाहा ज़िन्दगी के सवालों को मैंने,
हर एक सवाल में ज़िन्दगी मेरी उलझती चली गई।
Jab Bhi Suljhana Chaha Zindagi Ke Sawalon Ko Maine,
Har Ek Sawaal Mein Zindagi Meri Ulajhti Chali Gayi.

यूँ ही खत्म हो जायेगा जाम की तरह जिन्दगी का सफ़र,
कड़वा ही सही एक बार तो नशे में होकर पिया जाये।
Yun Hi Khatm Ho Jayega Jaam Ki Tarah Zindagi Ka Safar,
Kadwa Hi Sahi Ek Baar To Nashe Mein Hokar Piya Jaye.

पानी फेर दो इन पन्नों पर ताकि धुल जाए स्याही सारी,
ज़िन्दगी फिर से लिखने का मन होता है कभी-कभी।
Paani Pher Do Inn Panno Par Taki Dhul Jaye Syahi Sari,
Zindagi Fir Se Likhne Ka Man Hota Hai Kabhi Kabhi.

Advertisement

Iss Tarah Se Gujaari Hai Zindagi

Life Shayari in Hindi, Wo Zindagi Hi Kya

Advertisement

You may also like