Hasil-e-Zindagi Kuchh Nahi

Advertisement

हासिल-ए-ज़िन्दगी हसरतों के सिवा और कुछ भी नहीं,
ये किया नहीं, वो हुआ नहीं, ये मिला नहीं, वो रहा नहीं।
Hasil-e-Zindagi Hasrato Ke Siwa Aur Kuchh Bhi Nahi,
Ye Kiya Nahi, Wo Hua Nahi, Ye Mila Nahi, Wo Raha Nahi.

Haasil-e-Zindagi Kuchh Nahi Life Shayari in Hindi

पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में,
वरना मेरी ज़िन्दगी का हर पन्ना मुकम्मल किताब है।
Parhne Walon Ki Kami Ho Gayi Hai Aaj Is Zamaane Mein.
Varna Meri Zindagi Ka Har Panna Mukammal Kitaab Hai.

Advertisement

है अजीब शहर की ज़िन्दगी न सफर रहा न क़याम है,
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बदमिजाज़ सी शाम है।
Hai Ajeeb Shahar Ki Zindagi Na Safar Raha Na Qayam Hai,
Kahi Karobaar Si Dophar Kahi Bad-Mijaz Si Shaam Hai.

मंजिलें मुझे छोड़ गयीं रास्तों ने संभाल लिया,
ज़िन्दगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया।
Manzile Mujhe Chhod Gayin Raston Ne Sambhal Liya
Zindagi Teri Jarurat Nahi Mujhe Haadson Ne Paal Liya.

Advertisement

Zindagi Hisaabon Se Jee Nahi Jaati

Kitna Aur Badaloon Ai Zindagi Shayari

Advertisement

You may also like