Ho Gaya Hai Zindagi Ka Tajurba

Advertisement

अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िन्दगी का तजुर्बा थोड़ा थोड़ा।
Ab Samajh Leta Hun Meethhe Lafzon Ki Kaduwahat,
Ho Gaya Hai Zindagi Ka Tajurba Thoda Thoda.

Hindi Shayari Zindagi Ka Tajurba

मुझे ज़िन्दगी का इतना तजुर्बा तो नहीं है दोस्तों,
पर लोग कहते हैं यहाँ सादगी से कटती नहीं।
Mujhe Zindagi Ka Itna Tajurba To Nahin Hai Dosto,
Par Log Kahte Hain Yehan Saadgi Se KatTi Nahi.

Advertisement

फुर्सत मिले जब भी तो रंजिशे भुला देना,
कौन जाने साँसों की मोहलतें कहाँ तक हैं।
Fursat Mile Jab Bhi To Ranjishen Bhula Dena,
Kaun Jaane Saanso Ki Mohlatein Kahan Tak Hain.

पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं,
तुझे ऐ ज़िन्दगी हम दूर से पहचान लेते हैं।
Pehle Se Un Kadamon Ki Aahat Jaan Lete Hain,
Tujhe Ai Zindagi Hum Dur Se Pehchaan Lete Hain.

देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अब तो अजीब से।
Dekha Hai Zindagi Ko Kuchh Itna Kareeb Se,
Chehre Tamaam Lagne Lage Hain Ab To Ajeeb Se.

Advertisement

Liye Firti Hai Zindagi Mujhko

Zindagi Humko Aazmaati Rahi

Advertisement

You may also like