Ab Kyun Takleef Hoti Hai

Kyun Takleef Hoti Hai Shayari Sad

अब क्यूँ तकलीफ होती है तुम्हें इस बेरुखी से,
तुम्हीं ने तो सिखाया है कि दिल कैसे जलाते हैं।
Ab Kyun Takleef Hoti Hai Tumhien Iss Berukhi Se,
Tumhin Ne To Sikhaya Hai Ki Dil Kaise Jalate Hain.

तुमने कहा था आँखें भर के देखा करो मुझे,
अब आँख तो भर आती है पर तुम नहीं दिखते।
Tumne Kaha Tha Aankhein Bhar Ke Dekha Karo Mujhe,
Ab Aankh To Bhar Aati Hai Par Tum Nahi Dikhte.

बहुत मसरूफ हो शायद जो हम को भूल बैठे हो,
न ये पूछा कहाँ पे हो न यह जाना कि कैसे हो।
Bahut Mashroof Ho Shayad Jo Humko Bhool Baithe Ho,
Na Ye Poochha Kahan Pe Ho Na Ye Jana Ki Kaise Ho.

आखिर को ज़िन्दगी ने भी आज पूछ लिया मुझ से,
कहाँ है वो शख्स जो तुझे मुझसे अजीज़ था।
Aakhir Ko Zindagi Ne Bhi Aaj Poochh Liya Mujhse,
Kahan Hai Wo Shakhs Jo Tujhe Mujhse Ajeez Tha.

Yakeen Tha Bhool Jaaoge

Sad Poetry, Mohabbat Nahi Mili

You may also like