Uske Intezaar Ke Wo Deeye

Bujh Gaye Intezaar Ke Deeye

मुझको अब तुझ से मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िन्दगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उसके इंतज़ार के वो दीये,
कहीं आस-पास भी उस की आहट नहीं रही।

Mujhko Ab Tujh Se Mohabbat Nahi Rahi,
Ai Zindagi Teri Bhi Mujhe Jaroorat Nahi Rahi,
Bujh Gaye Ab Uske Intezaar Ke Wo Deeye,
Kahin Aas-Paas Bhi Uski Aahat Nahi Rahi.

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यूँ है,
इन्कार करने पर चाहत का इकरार क्यूँ है,
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद,
फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतजार क्यूँ है।

Ek Ajnabi Se Mujhe itna Pyar Kyun Hai,
Inkaar Karne Par Chahat Ka ikraar Kyun Hai,
Use Paana Nahi Meri Takdeer Mein Shayad,
Fir Har Mod Par Uska Intezar Kyun Hai.

Na Poochho Aalam Intezar Ka

Ye Intezaar Na Thhehra Shayari

You may also like