Painful Shayari, Dard-e-Dil Ka Mazaa

Advertisement

मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया?
कहने को ज़िन्दगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।
Mujhko To Dard-e-Dil Ka Mazaa Yaad Aa Gaya,
Tum Kyun Huye Udaas Tumhein Kya Yaad Aa Gaya?
Kahne Ko Zindagi Thi Bahut Mukhtsar Magar,
Kuchh Yoon Basar Huyi Ki Khuda Yaad Aa Gaya.

Ek Naya Dard Mere Dil Mein Shayari

Advertisement

एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया,
कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया,
जिसे ढूंढ़ते रहे हम लोगों की भीड़ में,
मुझसे वो अपने आपको छुपा कर चला गया।
Ek Naya Dard Mere Dil Mein Jaga Kar Chala Gaya,
Kal Fir Wo Mere Shehar Mein Aakar Chala Gaya,
Jise Dhoondte Rahe Hum Logon Ki Bheed Mein,
Mujh Se Wo Apne Aapko Chhupa Kar Chala Gaya.

सजा कैसी मिली हमको तुझसे दिल लगाने की,
रोना ही पड़ा जब कोशिश की मुस्कुराने की,
कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द भरी रातों का हमराज,
दर्द ही मिला है जो कोशिश की आजमाने की।
Saza Kaisi Mili Humko Tujhse Dil Lagane Ki,
Rona Hi Pada Jab Koshish Ki Muskurane Ki,
Kaun Banega Yaha Meri Dard Bhari Raton Ka Humraz,
Dard Hi Mila Hai Jo Koshish Ki Aazmane Ki.

Advertisement

Dard Bhare Status, Dard Ki Zidd Hai

Dard Shayari, Shayad Wo Dard Jaane

Advertisement

You may also like