Jinhein Mili Judai

Jinhein Mili Judai Shayari

इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,
ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पे गिन लो,
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।

Ishq To Bas Mukaddar Hai Koyi Khwaab Nahi,
Ye Wo Manzil Hai Jis Mein Sab Kamyaab Nahi,
Jinhein Saath Mila Unhen Ungliyo Pe Gin Lo,
Jinhein Mili Judai Unka Koyi Hisaab Nahi.

आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो,
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो,
किस-किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से,
आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।

Aao Kisi Shab Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho,
Meri Rago Mein Zehar Judayi Ka Utarata Dekho,
Kis-Kis Adaa Se Tujhe Manga Hai Khuda Se,
Aao Kabhi Mujhe Sajadon Me Siskata Dekho.

Ek Umr Bhar Ki Judai

You may also like