Unka Diya Koi Zakhm Hurt Shayari

Advertisement

कुरेद-कुरेद कर बड़े जतन से
हमने रखे हैं हरे,
कौन चाहता है कि
उनका दिया कोई ज़ख्म भरे।

Kured-Kured Kar Bade Jatan Se
Humne Rakhe Hain Hare,
Kaun Chaahta Hai Ki
Unka Diya Koi Zakhm Bhare.

Advertisement

एहसान किसी का वो रखते नहीं
मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा
जख्मों पे लगा दिया।

Ehsaan Kisi Ka Wo Rakhte Nahi
Mera Bhi Chuka Diya,
Jitna Khaya Tha Namak Mera
Zakhmo Pe Laga Diya.

Advertisement

To Zakhm Bhi Bhar Jayenge

Seete Rahe Hum Zakhm

Advertisement

You may also like