Mohabbat GunGunati Hai

तेरे खामोश होंठों पर मोहब्बत गुनगुनाती है,
तू मेरा है मैं तेरा हूँ बस यही आवाज़ आती है।
Tere Khamosh Honthho Par Mohabbat GunGunati Hai,
Tu Mera Hai Main Tera Hoon Bas Yahi Awaaz Aati Hai.

Mohabbat Gungunati Hai Romantic Shayari

ये कैसा सिलसिला है तेरे और मेरे दरमियाँ,
फासले तो बहुत हैं मोहब्बत कम नहीं होती।
Yeh Kaisa Silsila Hai Tere Aur Mere Darmiyaan,
Faasle To Bahut Hain Magar Mohabbat Kam Nahi Hoti.

मोहब्बत की कहूँ देवी या तुमको बंदगी कह दूँ,
बुरा मानो न गर हमदम तो तुमको ज़िन्दगी कह दूँ।
Mohabbat Ki Kahun Devi Ya Tumko Bandgi Keh Doon,
Bura Maano Na Gar HumDam To TumKo Zindagi Keh Dun.

मुझे मालूम है मेरे मुकद्दर में तुम नहीं लेकिन,
मेरी तक़दीर से छुप कर एक बार मेरे हो जाओ।
Mujhe Malum Hai Mere Muqaddar Mein Tum Nahi Lekin,
Meri Taqdeer Se Chhup Kar Ek Baar Mere Ho Jaao.

Romantic Shayari for Wife, Honthhon Ki Hararat Se

Romantic Poetry, Tum Hum Se Pyar Karo

You may also like